Location लक्षण

● फुफ्फुसावरण से उबरने के बाद छाती में एक सिलाई जैसा दर्द बना रहता है → CARBO ANIMALIS 30C
● पेट का दर्द अचानक दूर के हिस्सों में चला जाना → DIOSCOREA VILLOSA Q
● या तो कक्षा के भीतरी कोण पर दबाव के साथ दर्द आम तौर पर मस्तिष्क के माध्यम से और खोपड़ी के आधार तक फैलता है → OREODAPHNE CALIFORNICA (OREODAPHNE) Q
● बाएं कंधे और दाहिने कूल्हे को प्रभावित करता है → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● श्लेष्मा झिल्ली के बाहर के लिए आत्मीयता → NITRICUM ACIDUM 6C
● गुदा चौड़ा खुला रहता है → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● शंकुवृक्षों पर संधिवात संबंधी विकार → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● जीभ का अपक्षय → MURIATICUM ACIDUM 3C
● पेट में श्रव्य हलचल → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● पीठ तीर की तरह पीछे की ओर झुकें → CICUTA VIROSA 30X
● पलकों के नीचे सूजन जैसा बैग → APIS MELLIFICA Q
● नाखून को तब तक काटें जब तक उंगली से खून न निकल जाए → ARUM TRIPHYLLUM 30C
● fossa navicularis में काटता हुआ दर्द होना → PETROSELINUM SATIVUM (PETROSELINUM) 30C
● जननांग में नीले धब्बे → ARSENICUM ALBUM 30C
● कुंद यंत्र त्वचा पर गहरे छाप छोड़ते हैं → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● एड़ियों में फोड़े → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● बाहरी श्रवण सरणि के भीतर फोड़े → PICRICUM ACIDUM 6C
● स्तन केक की एक शुरुआती प्रवृत्ति को दर्शाता है → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● स्तन ट्यूमर मुर्गी के अंडे का आकार → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● स्तन सिकुड़ गए → SABAL SERRULATA Q
● निर्धारित स्थानों में छाती में जलन → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● रात को हथेलियों और तलवों में जलन → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● पेट में छोटे हिस्सो में जलन → OXALICUM ACIDUM 30C
● पेट में तेज दर्द → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● लगातार जलने से गुर्दे की रेखाओं का पता लगा सकते हैं → HELONIAS DIOICA (HELONIAS – CHAMAELIRIUM) Q
● जननांगों पर स्पर्श सहन नहीं कर सकते → MURIATICUM ACIDUM 3C
● पलकें उठाने के लिए सहन नहीं कर सकते → PHYSOSTIGMA VENENOSUM Q
● पुराने निशान से स्तन का कैंसर → GRAPHITES 30C
● चाय के प्याले के समान कठोर स्तन का कैंसर → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● निचले आंत्र का कैंसर → RUTA GRAVEOLENS 6C
● कैप्सुलर मोतियाबिंद → AMMONIUM MURIATICUM 6C
● जोड़ों में हड्डियों का दर्द → NITRICUM ACIDUM 6C
● मूत्राशय का कार्टिलाजिनस कठोरता → PAREIRA BRAVA (CHONDRODENDRON TOMENTOSUM) Q
●Chapped finger tips → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
●Chapped fingers about the nail → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● महिला जननांग में पनीर जैसा जमा होता है → HELONIAS DIOICA (HELONIAS – CHAMAELIRIUM) Q
● बच्चा नाभि को सबसे दर्दनाक भाग के रूप में संदर्भित करता है → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● होंठों में ठंड शुरू हो जाती है → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● स्तन में ठंड लगना → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● तेजी से पीछे की ओर ऊपर – नीचे की ओर चलने वाली ठंड लगना। → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● कान में ठंड लगना → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● अगुलियो की नोक मे ठंड लगना शुरू हो जाता है → BRYONIA ALBA (BRYONIA) 12X
● नितंबों से शुरू होने वाली ठंड लगना → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● हथेलियों और तलवों से शुरू होने वाली ठंड लगना → DIGITALIS PURPUREA (DIGITALIS) Q
● ठंड की शुरुआत त्रिकास्थि से होती है → BELLADONNA 30C
● गले से शुरू होने वाली ठंड लगना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● शिखर से शुरू होने वाली ठंड → ARUM DRACONTIUM Q
● नाभि से शुरू होने वाली ठंड लगना → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● पेट से अंगुलियों और अंगुठो तक ठंड लगना → CALADIUM SEGUINUM 6X
● खोपड़ी से ठंड लगना → MOSCHUS 3C
● शरीर के आंतरीक मे भाग में ठंड लगना → STRAMONIUM Q
● जीभ का कोरिया → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● एड़ियों में पुराने छाले होना → CARBOLICUM ACIDUM 30C
● Cicatrices हरा हो जाता है → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● नाखून जैसे पंजे → ARSENICUM ALBUM 30C
●Clubbing of fingers → LAUROCERASUS Q
● ग्रंथियों की शीतलता → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● पेट के एक तरफ की ठंडक → AMBRA GRISEA 3C
● दाईं ओर की ठंडक और बाईं ओर की गर्मी → RHUS TOXICODENDRON 30C
● शिकायतें ऊपेर से नीचे की तरफ दिखाई देती हैं → KALMIA LATIFOLIA Q
● शिकायतें नीचे से ऊपर की ओर दिखाई देती हैं → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● लड़कों का जन्मजात hydrocele → RHODODENDRON FERRUGINEUM (RHODODENDRON) 6C
●Conical cornea → EUPHRASIA OFFICINALIS (EYEBRIGHT) 6C
● लगातार खून बहने तक नाक पकडे रखना → ARUM TRIPHYLLUM 30C
● लगातार जिगर क्षेत्र को हाथों से रगड़ें → PODOPHYLLINUM (PODOPHYLLUM) Q
● मोच के बाद उंगलियों का सिकुड़ना → CANNABIS SATIVA Q
● स्तन में जलन → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● पिंडली की पेशी में शुरू होने वाली ऐंठन → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● एक्स्टेंसर की मांसपेशियों में ऐंठन → CINA MARITIMA (CINA) 3X
● फ्लेक्सर मांसपेशियों का ऐंठन → BELLADONNA 30C
● माथे और बालों के किनारों पर होने वाली खुजली → OLEANDER (NERIUM ODORUM) 30C
● लहरदार जीभ → NATRIUM ARSENICOSUM (NATRUM ARSENICUM) 30C
● कॉर्टिकल मोतियाबिंद → SULPHUR 200C
● जोड़ों के मोड़ में फटी त्वचा → HIPPOZAENINUM (HIPPOZAENIUM) 30C
● श्लेष्मा-त्वचीय जंक्शन में दरारें → NITRICUM ACIDUM 6C
● पैर को क्रोस रखना असम्भ्व → LATHYRUS SATIVUS (LATHYRUS) 3C
● कुचली हुई अंगुलियां → HYPERICUM PERFORATUM (HYPERICUM) Q
● घुमावदार नाखून → NITRICUM ACIDUM 6C
● मज्जा में मर्मज्ञ हड्डियों का क्षय → ANGUSTURA VERA 6C
● दिल के आधार पर गहरी से बैठा दर्द → LOBELIA INFLATA Q
● जीभ के गहरे छाले → MURIATICUM ACIDUM 3C
● स्यूडोमेम्ब्रेन जमा के साथ डिप्थीरिया, स्वरयंत्र और श्वासनली के नीचे की ओर। → KALIUM BICHROMICUM (KALI BICHROMICUM) 3X
● ऊपर जाने पर पटेला की अव्यवस्था → CANNABIS SATIVA Q
● विकृत जीभ → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● आंखों में दर्ज होने वाले दर्द से परेशान → COCCUS CACTI 3X
● मुंह के कोनों का गिरना → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● ढके हुए भागों की सूखी गर्मी → THUJA OCCIDENTALIS Q
● सूखे चमड़े जैसे जीभ → MURIATICUM ACIDUM 3C
● नम पक्षों के साथ केंद्र की सूखापन → APIS MELLIFICA Q
● जीभ के अग्रभाग का सूखापन → RUMEX CRISPUS 6C
● निपल्स का सूखापन → CASTOREUM CANADENSE (CASTOREUM) Q
● खोपड़ी का सूखापन → SKOOKUM CHUCK AQUA (SKOOKUM – CHUCK) 3X
● बौने दांत → CALCAREA FLUORICA (FLUOR SPAR) 6X
● कान के छेद में एक्जिमा → NITRICUM ACIDUM 6C
● निपल्स का एक्जिमा → GRAPHITES 30C
● कठोर नींबू रंग की पपड़ी से खुजली के बिना एक्जिमा → CICUTA VIROSA 30X
● बच्चों में क्षीण नितंब → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● सिर के पिछले भाग में अधिक कमजोरी होना → MAGNESIUM CARBONICUM (MAGNESIA CARBONICA) 30C
● पीठ का कमजोर होना → TABACUM 30C
● पिंडली का कमजोर होना → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● उँगलियों की नोको का क्षीण होना → ARSENICUM ALBUM 30C
● रेटिना धमनियों का समावरोध → CROCUS SATIVUS (CROCUS SATIA) Q
● बढ़े हुए लेंस → COLCHICUM AUTUMNALE (COLCHICUM) 12X
● जिगर क्षेत्र पर बारीक चकत्ते के साथ बढ़े हुए दर्दनाक जिगर → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● निपल्स खडे रहना → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● मूत्रमार्ग के छेद में फोड़े फुंसी → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● नितंबों के बीच में फोड़े फुंसी → OLEANDER (NERIUM ODORUM) 30C
● मलद्वार में फोड़े फुंसी → CACTUS GRANDIFLORUS (SELENICEREUS SPINULOSUS) Q
● घायल भागों में फोड़े फुंसी → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● विसर्प बाएं से दाएं → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● उदर का विसर्प → GRAPHITES 30C
● यूरेथ्रल के छेद का उलटना → CAPSICUM ANNUUM (CAPSICUM) 6X
● जीभ की नोक की उत्तेजना → KALIUM CARBONICUM (KALI CARBONICUM) 200C
● त्रिकास्थि की चरम संवेदनशीलता, नरम तकिए का हल्का स्पर्श भी नहीं सह सकती → LOBELIA INFLATA Q
● पलकों के शोफ से आंखें लगभग बंद → EUPHORBIUM OFFICINARUM (EUPHORBIUM) 6C
● आंखों से खून आना और बेचैन होना → SULFONALUM (SULFONAL) 3X
● बैठने पर आँखें बंद हो जाती हैं → MURIATICUM ACIDUM 3C
● इलियम से इलियम तक हाइपोगैस्ट्रिअम में व्यथा का अनुभव → MEL CUM SALE 6C
● शिशुओं में गुदा में लाल लाल दाने → MEDORRHINUM 1M
● जीभ में लाल लाल दाने → STRAMONIUM Q
● जीभ का पहला आधा भाग साफ, पीछे आधा गहरा फर से ढका हुआ → NUX VOMICA 30C
● बढ़ते नाखून के साथ परत जुड़ा रहता है → OSMIUM 6C
● पैर की उंगलियों के बीच पसीना उन्हें पीड़ादायक बनाता है → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● मस्तिष्क का आधार गर्म, माथा ठंडा → ZINCUM METALLICUM (ZINC) 6C
● बालों की जड़ पर सिहरन → PHOSPHORICUM ACIDUM Q
● कान से फंगस का निकलना → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● दाद से ग्रसित ग्रंथियाँ → DULCAMARA 30C
● केंद्र का ग्लोसिटिस → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● छाती का Gout → COLCHICUM AUTUMNALE (COLCHICUM) 12X
● आँखों की Gout → NUX VOMICA 30C
● गर्भ का दाने का अल्सर → HYDROCYANICUM ACIDUM (HYDROCYANIC ACID) 200C
● ठोड़ी और महिलाओं के ऊपरी होंठ में बालों का विकास → OLEUM JECORIS ASELLI 3X
● अंगूर के गुच्छों की तरह बवासीर → ALOE SOCOTRINA (ALOE) 30C
● पीठ पर बाल → TUBERCULINUM 200C
● जीभ का आधा सूखना → BELLADONNA 30C
● जीभ की कठोर गांठ → MURIATICUM ACIDUM 3C
● सिर का दर्द जीभ तक फैलना → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● मस्तिष्क के आधार में शुरू होने वाला सिरदर्द सिर पर फैलता है और बाईं ओरबिट मे बैठ जाता है → SPIGELIA ANTHELMIA (SPIGELIA) 30C
● सिर दर्द उंगलियों की नोंक तक पैल जाता है → CAMPHORA Q
● खोपड़ी की हड्डी का जोड़ के क्षेत्र के पास सिरदर्द → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● लकवाग्रस्त अंग में गर्मी → ALUMINA 30C
● नाक की नोक पर फोडे फुंसी → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● जीभ को फैलाने में परेशानी → CISTUS CANADENSIS 12X
● एक तरफ के ऊतकों का अतिवृद्धि → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● उदर की हिस्टीरिकल डिस्टेंशन → TARAXACUM OFFICINALE Q
● पेट में हिस्टीरिकल दर्द → STANNUM METALLICUM (STANNUM) 30C
● अचल छाती → PHOSPHORUS 30C
● बूढ़े आदमी में लिंग की कठोरता → BERBERIS VULGARIS Q
● शिशु के स्तन निविदा → CHAMOMILLA 12X
● नाक से गले तक सूजन → NITRICUM ACIDUM 6C
● गले की सूजन ऊपर और नीचे की ओर फैली हुई → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● कोक्सीक्स की नोक पर असहनीय खुजली → BOVISTA LYCOPERDON (BOVISTA) 6C
● भुजाओ को मोडने की अदम्य इच्छा → FERRUM METALLICUM 6C
● एक कान से दूसरे कान तक खुजली होना → CHELIDONIUM MAJUS Q
● मूत्रमार्ग में गहरी खुजली → PETROSELINUM SATIVUM (PETROSELINUM) 30C
● कान से पूरे शरीर तक खुजली क फैल जाना → AMMONIACUM GUMMI (AMMONIACUM-DOREMA) 3X
● खुरचने से एड़ियों में खुजली होना → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● यकृत क्षेत्र में खुजली → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● उन भागों में खुजली जहाँ फोडे फुनसी हुए थे → CALCAREA ACETICA 3X
● बाहरी छेद में खुजली होना → TELLURIUM METALLICUM (TELLURIUM) 6C
● भगशेफ की खुजली → SULPHUR 200C
● त्वचा की सिलवटों की खुजली → SELENIUM METALLICUM (SELENIUM) 30C
● भागों में खुजली कम नहीं होती है → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● दाहिनी ओर की खुजली → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● अंडकोश की खुजली उसे सचेत रखती है → URTICA URENS Q
● छिद्रों, मुंह की खुजली → FLUORICUM ACIDUM 30C
● थायरॉइड ग्रंथि की खुजली → AMBRA GRISEA 3C
● जीभ की नोक की खुजली → DULCAMARA 30C
● गर्भाशय की खुजली → BELLIS PERENNIS Q
● vertex की खुजली → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● प्रभावित भागों पर खुजली → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● स्तनों में तीक्ष्ण दर्द होना → ASTERIAS RUBENS 6C
● स्वरयंत्र श्वसन के साथ हिंसक रूप से ऊपर और नीचे बढ़ता है → SULPHURICUM ACIDUM Q
● वाम पक्षीय inguinal वंक्षण हर्निया → NUX VOMICA 30C
● जिगर बढ़े हुए और पसलियों के नीचे से → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● मौसम परिवर्तन से बढ़े हुए धब्बों में स्थानीय बोनी दर्द → RHODODENDRON FERRUGINEUM (RHODODENDRON) 6C
● गर्दन की ग्रंथियों के घातक रोग → CISTUS CANADENSIS 12X
● मुंह के घातक अल्सर, → MURIATICUM ACIDUM 3C
● कठिन दर्दनाक नोड्स से भरा स्तन → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● अल्सर के साथ स्तन फोड़ा → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● जीभ पर लाल लाल नक्से की तरह पैचेस बने हुये → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● जीभ पर पीली कोटिंग → MERCURIUS IODATUS RUBER 3X
● योनी और जांघ के बीच की नमी → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● गहरे लाल रंग के कोमल संवेदनशील धब्बे देने वाले पैच में जीभ से बलगम झिल्ली निकलती है → TARAXACUM OFFICINALE Q
● स्तन ग्रंथियों या अंडकोष को मेटास्टेसिस → PULSATILLA PRATENSIS (PULSATILLA) 12X
● गतिहीन रोजगार की महिलाओं में कंधे के ब्लेड की मांसपेशियों में दर्द → RANUNCULUS BULBOSUS Q
● बच्चों में मांसपेशियों की कमजोरी → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● नाखून नहीं बढ़ते हैं → ANTIMONIUM CRUDUM 6C
● ऊपरी होंठ को लाल कर देने वाला नाक का स्त्राव → ALLIUM CEPA 3C
● बाएं स्तन का स्नायुशूल → ASTERIAS RUBENS 6C
● उंगली के नाखून के नीचे का नसों का दर्द → BERBERIS VULGARIS Q
● नाभि से गर्भाशय तक तंत्रिका दर्द → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● शरीर के बाकी हिस्से के मुकाबले निप्पल ठंडे मह्शूस होते है → MEDORRHINUM 1M
● निप्पल को कीप की तरह खींचा जाता है → SILICEA TERRA (SILICEA) 6C
● निपल्स असंवेदनशील → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● Nodosities under tongue → AMBRA GRISEA 3C
● एक पुराने फोड़े की साइट पर त्वचा में गांठें → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● पानी के डिस्चार्ज के बावजूद नाक बंद हो जाती है → ARUM TRIPHYLLUM 30C
● आँखों के आसपास सुन्नपन → ASA FOETIDA (ASAFOETIDA) 6C
● गुर्दे के क्षेत्र में सुन्नता → BERBERIS VULGARIS Q
● नाक की रुकावट नर्सिंग को रोकती है → SAMBUCUS NIGRA Q
● एक स्तन दूसरे की तुलना में छोटा → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● एक गाल लाल और दूसरा पीला और ठंडा → ACONITUM NAPELLUS 3C
● एक पुतली चौडा → CADMIUM SULPHURATUM 30C
● एक तरफा ग्लोसिटिस → NUX VOMICA 30C
● केवल एक आंख खुली → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● कान से कान तक सिर के ऊपर से दर्द → PALLADIUM METALLICUM (PALLADIUM) 30C
● दाएं अंडाशय के क्षेत्र में दर्द और सूजन → PALLADIUM METALLICUM (PALLADIUM) 30C
● तीसरे बाएं कॉस्टल उपास्थि के बारे में एक जगह पर दर्द जहां यह पसली में जुड़ता है → PIX LIQUIDA 6C
● अन्य भागों से योनि में दर्द केंद्र → CALCAREA PHOSPHORICA 6X
● मूत्रमार्ग के छिद्र से पीछे की ओर निकलता हुआ दर्द → CANNABIS SATIVA Q
● प्यूबिस से पीठ तक फैलने वाला दर्द → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● पेट तक जीभ से फैली हुई पीड़ा → CROTALUS HORRIDUS 6C
● दर्द ऊपरी जबड़े से सभी दिशाओं तक फैला होता है → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● निप्पल से पीठ तक दर्द → CROTON TIGLIUM 30C
● गर्भ के दाईं ओर से दाएं या बाएं स्तन में दर्द → MUREX PURPUREA (MUREX) 30C
● दर्द एक कान से दूसरे कान तक जाता है → PLANTAGO MAJOR Q
● शरीर के सभी भागों में पेट में दर्द होना → PLUMBUM METALLICUM Q
● आंखों के गोले के केंद्र में दर्द → CIMICIFUGA RACEMOSA (CIMICIFUGA – ACTAEA RACEMOSA – MACROTYS) 12X
● मौसम परिवर्तन के दौरान सिकाट्रीस में दर्द → CARBO ANIMALIS 30C
● कानों में दर्द अंगुलियों तक फैलता है → HAMAMELIS VIRGINIANA (HAMAMELIS VIRGINICA) Q
● बाएं टेम्पल में फैली कक्षा और नेत्रगोलक के बीच आँख की गेंद में दर्द → ONOSMODIUM VIRGINIANUM (ONOSMODIUM) 30X
● चेहरे में दर्द अंगुलियों तक फैलता है → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● अंतिम ग्रीवा से पांचवें पृष्ठीय कशेरुकाओं में दर्द → TELLURIUM METALLICUM (TELLURIUM) 6C
● गलत स्थिति में अंगों में दर्द → TARAXACUM OFFICINALE Q
● अंगुलियों तक फैले स्तन ग्रंथियों में दर्द → ASTERIAS RUBENS 6C
● पूरे शरीर तक फैले निपल्स में दर्द → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● अंडाशय में दर्द जो दिल तक फैले → NAJA TRIPUDIANS 30C
● अंडाशय में योनि में दर्द होना → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● दाये घुटने की चक्की का दर्द → PHYSOSTIGMA VENENOSUM Q
● जीभ के किनारों में दर्द → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● मांसपेशियों के लगाव में दर्द → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● अल्सर के किनारों में दर्द → ASA FOETIDA (ASAFOETIDA) 6C
● लंबी हड्डियों के बीच में दर्द → PHYTOLACCA DECANDRA (PHYTOLACCA) Q
● उरोस्थि से एक या दो इंच के दूर तीसरी पसली के क्षेत्र में दर्द → ANISUM STELLATUM (ILLICIUM) 3C
● दर्दनाक गठिया नोड्स → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● जोड़ों में तेज दर्द होना → COCCULUS INDICUS (COCCULUS) 30C
● जीभ के किनारों का पीला होना → CHININUM SULPHURICUM 3X
● पपीला जीभ की नोक पर अनुपस्थित है → CARCINOSINUM (CARCINOSIN) 200C
● दूसरे पक्ष की संवेदनशीलता के साथ एक तरफ का पक्षाघात → PLUMBUM METALLICUM Q
● खोपडी के पीछे के दाहिने भाग में आवधिक स्नायुशूल → AMMONIUM PHOSPHORICUM 3X
● पैरों को छोड़कर शारीर के अन्ये भागो मे पसीना आना → CHINA OFFICINALIS (CINCHONA OFFICINALIS) Q
● निचले अंगों को छोड़कर पसीना आना → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● बाएँ हाथ और बाएँ पैर पर पसीना → LAC VACCINUM DEFLORATUM (LAC DEFLORATUM) 30C
● अंडकोश की एक तरफ पसीना आना → THUJA OCCIDENTALIS Q
● चेहरे को छोड़कर पूरे शरीर में पसीना आना → RHUS TOXICODENDRON 30C
● पिंपल्स के आसपास से कुछ दूरी पर दर्द हैं → EUGENIA JAMBOS (JAMBOSA VULGARIS) 30C
● पेट का गड्ढा उल्टे तश्तरी की तरह सूज जाता है → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● प्लांटर मौसा → CAUSTICUM 12X
● प्रभावित जोड़ पर सूजन और लालिमा → STICTA PULMONARIA (STICTA) Q
● डायाफ्राम में दबाता हुवा दर्द → IPECACUANHA (IPECA) 200C
● दाएं कार्पल और मेटाकार्पल जोड़ों में दर्द → VIOLA ODORATA 6C
● दांतों को एक साथ दबाने से सिर, आंख और कान के माध्यम से झटके आते हैं → AMMONIUM CARBONICUM (AMMONIUM CARB) 6C
● फ्रेक्चर्ड क्षेत्र में चुभने वाला दर्द बना रहता है → SYMPHYTUM OFFICINALE (SYMPHYTUM) Q
● शरीर के ऊपरी भाग में चुभती गर्मी → SYZYGIUM JAMBOLANUM Q
● मलाशय के बाहर आने के बाद वापस होने मे परेशानी → MEZEREUM 30C
● ऑपरेशन के बाद लेंस के टुकड़ों के अवशोषण को बढ़ावा देता है → SENEGA Q
● आँख के भौंह के सोरायसिस → PHOSPHORUS 30C
● धड़कन जीभ → VESPA CRABRO 30C
● नाखूनों का तेजी से विकास → FLUORICUM ACIDUM 30C
● रेक्टो योनि फिस्टुला → THUJA OCCIDENTALIS Q
● आँखों से लोहे के कणों को निकालता है → SYMPHYTUM OFFICINALE (SYMPHYTUM) Q
● जोड़ों की बेचैनी → SULPHUR 200C
● जीभ में तेज दर्द → AMBRA GRISEA 3C
● घायल हिस्सों का दर्द → CAUSTICUM 12X
● डेल्टॉइड के सम्मिलन पर कंधे का गठिया → SYPHILINUM 1M
● छोटे जोड़ों विशेषकर महिलाओं का गठिया → CAULOPHYLLUM THALICTROIDES (CAULOPHYLLUM) Q
● रिकेट्स महिला श्रोणि को प्रभावित करता है → OLEUM JECORIS ASELLI 3X
● दाये पक्षीय inguinal वंक्षण हर्निया → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● त्वचा के अँगूठी के आकार के घाव → TELLURIUM METALLICUM (TELLURIUM) 6C
● दाद जीभ पर → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● अंडकोश एक मूत्राशय की तरह बढ़े हुए → DIGITALIS PURPUREA (DIGITALIS) Q
● आंतरिक से बाहरी कैन्थस की कक्षा की हड्डियों में गंभीर शूटिंग दर्द → CINNABARIS (MERCURIUS SULPHURATUS RUBER) 3X
● बाएं डेल्टॉइड और पेक्टोरलिस मांसपेशियों में तेज दर्द → SOLIDAGO VIRGAUREA (SOLIDAGO VIRGA) Q
● बाईं आंख के ऊपर और बाएं टेम्पेल के माध्यम से तेज दर्द → SENECIO AUREUS Q
● नाभि से श्रोणि तक शूटिंग दर्द → PALLADIUM METALLICUM (PALLADIUM) 30C
● मस्तिष्क के माध्यम से दाहिने ललाट की हड्डी से दर्द की शूटिंग करना → PRUNUS SPINOSA 6C
● एकल कशेरुका छूने के लिए संवेदनशील → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● गर्दन की त्वचा गुना में लटकती है → SANICULA AQUA (SANICULA) 30C
● छोटे धब्बों में त्वचा संवेदनाहारी → BUFO RANA (BUFO) 30C
● घाव के आसपास की त्वचा का पीला होना → LACHESIS MUTUS (LACHESIS) 30C
● त्वचा सिकुड़ जाती है और सिलवटों में पड़ जाती है → SARSAPARILLA OFFICINALIS (SARSAPARILLA) 6C
● तलवों की त्वचा मोटी → ARSENICUM ALBUM 30C
● गंभीर सूजन के साथ आँखों में हल्का दर्द → IODIUM (IODUM) Q
● जीभ का चिकना किनारा → BAPTISIA TINCTORIA (BAPTISIA) Q
● घावों में ऐंठन शुरू होना → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● स्पस्मोडिक कठोर ओएस श्रम में देरी करता है → CAULOPHYLLUM THALICTROIDES (CAULOPHYLLUM) Q
● स्पंजी जीभ → BENZOICUM ACIDUM 6X
● प्रसव के दौरान गर्भाशय ग्रीवा का स्टेनोसिस → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● स्टर्नम के पास दाहिने स्तन के माध्यम से दर्द का कंधे के पिछली तरफ दर्द का फैलना → PHELLANDRIUM AQUATICUM (PHELLANDRIUM) Q
● Stye एक दूसरे को प्रभावित करता है, जिससे कठिन नोड्स निकल जाते हैं → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● धँसा हुआ कॉर्निया → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● जांघों को छोड़कर पसीना → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● लक्षण एक तरफ से दूसरे तरफ जाते हैं → LAC CANINUM 200C
● दांत अपनी सोकेट में ढीले हो जाते हैं → CALCAREA FLUORICA (FLUOR SPAR) 6X
● दांत दिखाई सड़ने लगते हैं → KREOSOTUM 30C
● दांत काले हो जाते हैं, उनके माध्यम से काले रंग की धारियाँ दिखाई देती हैं → STAPHYSAGRIA 30C
● Testes एक पत्थर की तरह कठोर → CHELIDONIUM MAJUS Q
● Testes कठोर, छिलने जैसी फीलिंग → CLEMATIS ERECTA 30C
● चेहरे पर मोटे दाने → CARBO ANIMALIS 30C
● पतले नाखून → ARSENICUM ALBUM 30C
● यौवन की उम्र में थायराइड का बढ़ना → CALCAREA IODATA 3X
● जीभ की टिप का सफ़ेद होना → CANTHARIS VESICATORIA (CANTHARIS) 30C
● केंद्र फर के साथ साफ, लाल और गीला जीभ → NITRICUM ACIDUM 6C
● जीभ तिरछे लेपित → RHUS TOXICODENDRON 30C
● जीभ लेपित हरे पीला रंग का → CHIONANTHUS VIRGINICA (CHIONANTHUS) Q
● जीभ केवल एक तरफ लेपित → DAPHNE INDICA 6X
● जीभ लेपित सफेद केंद्र पर → PETROLEUM 30C
● जीभ साफ किनारों के साथ लेपित → ARGENTUM NITRICUM 30C
● जीभ फर के साथ लेपित → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● जीभ की नोक पर दरार → BARYTA CARBONICA (BARYTA CARB) 30C
● जीभ सभी दिशाओं में फटी → FLUORICUM ACIDUM 30C
● जीभ बीच में सूखी → ANTIMONIUM TARTARICUM 6X
● जागने पर जीभ सूख जाती है → OXYTROPIS LAMBERTI (OXYTROPIS) 3C
● जीभ से लगता है कि पूरे मुंह में सूजन है → CAJUPUTUM (OLEUM WITTNEBIANUM) Q
● जीभ किनारों पर छोटे बैग की तरह मुड़ी हुई → ANISUM STELLATUM (ILLICIUM) 3C
● केंद्र में जीभ ग्रे → PHOSPHORUS 30C
● जीभ हरी भूरी → NATRIUM SULPHURICUM (NATRUM SULPHURICUM) 12X
● जीभ जले हुए चमड़े की तरह दिखती है → HYOSCYAMUS NIGER (HYOSCYAMUS) 30C
● बिना कोटिंग के सफेद दूधिय जीभ → GLONOINUM 30C
● जीभ सूखी, वह मुँह की छत तक पहुँच जाती है → NUX MOSCHATA 6C
● बीच में लाल लकीर के साथ जीभ → VERATRUM VIRIDE 6C
● दांत दर्द अंगुलियों तक फैला हुआ → COFFEA CRUDA 30C
● जोड़ों का फटना → CYCLAMEN EUROPAEUM (CYCLAMEN) 3X
● त्रिकोणीय लाल जीभ की नोक → RHUS TOXICODENDRON 30C
● मूत्र मार्ग के ट्यूमर → ANILINUM Q
● स्तनों में अल्सर का दर्द → CALCAREA CARBONICA (CALCAREA CARBONICA – OSTREARUM) 200C
● आंतों में अल्सर का दर्द → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● कोक्सीक्स के क्षेत्र में अल्सर → PAEONIA OFFICINALIS (PAEONIA) 30C
● जोड़ों का अल्सर → SEPIA OFFICINALIS (SEPIA) 30C
● कठोर किनारों वाली जीभ का अल्सर → KALIUM CYANATUM (KALI CYANATUM) 30C
● हड्डियों के ऊपर पतली त्वचा पर अल्सर → MERCURIUS SULPHURICUS, DRARG, OXYD, SUB-SULPH 30C
● अल्सर कच्चे मांस की तरह दिखते हैं → NITRICUM ACIDUM 6C
● शुष्क किनारों के साथ अल्सर → SANGUINARIA CANADENSIS (SANGUINARIA) Q
● दांतेदार ज़िग्स मार्जिन के साथ अल्सर → NITRICUM ACIDUM 6C
● नियमित मार्जिन के साथ अल्सर → KALIUM BICHROMICUM (KALI BICHROMICUM) 3X
● एकतरफा पसीना → NUX VOMICA 30C
● जोड़ों की अस्थिरता → MEZEREUM 30C
● शरीर का ऊपरी भाग क्षीण, निचला भाग अर्ध-लघु → LYCOPODIUM CLAVATUM (LYCOPODIUM) 200C
● लिंग लगभग कार्टिलाजिनस हो जाता है → PAREIRA BRAVA (CHONDRODENDRON TOMENTOSUM) Q
● यूरेथ्रल लिंग मांसल रसौली → CANNABIS SATIVA Q
● एड़ियों में यूरिकेरिया → NATRIUM MURIATICUM (NATRUM MURIATICUM) 30C
● नितंबों का यूरिकेरिया → HYDRASTIS CANADENSIS (HYDRASTIS) Q
● सिर का यूरिकेरिया → AGARICUS MUSCARIUS (AGARICUS MUSCARIUS-AMANITA) 30C
● उघड़े हुए भागों का यूरिकेरिया → APIS MELLIFICA Q
● गर्भाशय का दर्द गले तक → GELSEMIUM SEMPERVIRENS (GELSEMIUM) Q
● रीढ़ के खिलाफ दबाव से बचने के लिए एक कुर्सी पर बैठने के लिए बहुत संवेदनशील है → THERIDION CURASSAVICUM (THERIDION) 30C
● कान के छेद में वेसिकल्स → NICCOLUM SULPHURICUM 3X
● भटकती हुई हड्डी का दर्द → KALIUM BICHROMICUM (KALI BICHROMICUM) 3X
● ओएस एक्सटर्नम पर मौसा → CALENDULA OFFICINALIS Q
● उरोस्थि में मौसा → NITRICUM ACIDUM 6C
● नितंबों पर मस्से → CONIUM MACULATUM (CONIUM) 200C
● अच्छी तरह से चिह्नित Linas nasalis → AETHUSA CYNAPIUM 30C
● व्हिप कोर्ड का दर्द जैसे लिग का बढ़ना → CLEMATIS ERECTA 30C
● आँख का सफेद गंदा पीला → NATRIUM PHOSPHORICUM 12X
● जीभ के आधार की सफेद या ग्रे कोटिंग → KALIUM MURIATICUM (KALI MURIATICUM) 6C
● सफेद बवासीर → CARBO VEGETABILIS 3X
● बड़े स्तन वाली महिलाएं → CHIMAPHILA UMBELLATA Q
● जख्मी हिस्से छूने से ठंडे लगते हैं → LEDUM PALUSTRE (LEDUM) 30C
● झुर्रीदार कंजाक्तिवा → BROMIUM (BROMUM) 3X
● झुर्रीदार अंडकोश → RHODODENDRON FERRUGINEUM (RHODODENDRON) 6C
● कलाई गिरना → PLUMBUM METALLICUM Q
● एक्सोफाइड हड्डी अनुपस्थित → SYPHILINUM 1M
● जीभ और मुह की छत के आधार पर पीली मलाई का लेप → KALIUM PHOSPHORICUM (KALI PHOSPHORICUM) 6X